Google ऑनलाइन गेमिंग में भी उतरा

फिल्म या रियल लाइफ वर्क क्लाउड गेमिंग की बढ़ती लोकप्रियता प्रोजेक्ट पर आधारित होंगे गेम का फायदा उठाने की होड़ में अब गूगल भी शामिल हो गया है । कंपनी ने स्टेडिया स्मार्टफोन पर स्टेडिया की सेवा नाम से अपनी गेमिंग सेवा की शुरुआत वाई – फाई पर ही चलेगी की है । इस प्लेटफॉर्म पर उपयोगकर्ता कंसोल क्वालिटी के वीडियो गेम का हजारों रुपए के कंसोल खरीदने की डिवाइस शामिल है । यह उपकरण सीधे लुत्फ वेब ब्राउजर या स्मार्टफोन पर जरूरत पड़ती है । स्टेडिया प्लेटफॉर्म टीवी सेट में जुड़ जाता है ।

वहीं , कम्प्यूटर उठा सकते हैं । ऑनलाइन वीडियो पर मौजूद गेम आमतौर परब्लॉकबस्टर परइसे क्रोम वेब ब्राउजरके जरिए खेला गेमिंग का बाजार दुनियाभर में तेजी से फिल्म या रियल लाइफ वर्क प्रोजेक्ट पर जा सकता है ।इस साल के अंत तक यह आधारित होंगे । किसी भी उपकरण पर साथ ही गूगल द्वारा बनाए गएपिक्सल 15 , 000 करोड़ डॉलर ( करीब 10 खेलने का विकल्प इसे आकर्षक बनाता स्मार्टफोन पर भी इसका इस्तेमाल किया लाख करोड़ रुपए ) का हो जाएगा है । गूगल ने पिछले महीने फाउंडर जा सकता है.

इसके लिए सेकेंडजेनरेशन गेमिंग किट की कीमत : क्लाउड एडिशन किट्स की बिक्री की थी । या उससे ऊपरके पिक्सल स्मार्टफोन को गेमिंग का फायदा यह है कि इसके जरिए इसकी कीमत 129 डॉलर ( करीब जरूरत पड़ेगी । स्टेडिया प्रो का उपयोगकर्ता बिना किसी कंसोल के हाई 9249 रुपए ) थी । हर किट में एक सब्सक्रिप्शन अमेरिका में 10 डॉलर एंड गेम खेल सकता है । बिना क्लाउड स्टेडिया कंट्रोलर और एक पेंडेंट के ( करीब 710 रुपए प्रति महीने पर गेमिंग के हाई एंड गेम खेलने के लिए आकार की क्रोमकास्ट अल्ट्रावायलेस उपलब्ध है ।

You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *